DHONI – The Untold Story : Movie Review (First Day First Show)

0
226

एम एस धोनी – द अनटोल्ड स्टोरी। शुक्रवार – पहला दिन पहला शो, सुबह के नौ बजे का और पूरा हॉल खचाखच भरा हुआ। जब मैं थियेटर में दाखिल हुई तो ये नज़ारा ही बताने के लिए काफी था कि फिल्म को लेकर लोगों में कितनी ज्यादा एक्साइटमेंट है। अब शाहरूख, सलमान और आमिर के दौर में सुशांत जैसे न्यूकमर की फिल्म को ऐसी ओपनिंग मिले तो दवाब तो बन ही जाता है। ख़ैर अगर एक लाइन में आप रिव्यू जानना चाहते हैं और नीचे तक ये रिव्यू नहीं पढ़ना चाहते तो जान लीजिए कि 3 घंटे 5 मिनट की ये फिल्म में आप बोर तभी होते हैं, जब फिल्म में इंटरवल होता है। कहने का मतलब ये है कि फिल्म बेहद कसी हुई है, मनोरंजक है, हंसाती है, उम्मीद जगाती है, कई मौकों पर खूब इमोशनल भी करती है। अब फिल्म की बारीकियों पर भी कुछ बातें हो जाएं।

What’s Hot

फिल्म में क्या खास और सबसे शानदार है ? वो है फिल्म की कहानी। धोनी को तो आज सब जानते हैं लेकिन फिल्म देखते वक्त वाकई हैरानी होती है कि हम इस इंसान के बारे में बहुत कुछ नहीं जानते। फिल्म के डायरेक्टर नीरज पांडे ने वाकई धोनी के दिल में घुसकर उनके संघर्ष की कहानियां निकाली हैं और उन कहानियों को जिस तरीके से पर्दे पर उतारा है, वो सबके लिए Inspiring है।

What’s Not

फिल्म कहां पकाती है या फिर बोर करती है ? अच्छी बात ये है कि पूरी फिल्म में एक भी ऐसा मौका नहीं आता। हां, बस ये लगता है कि अगर गाने एकाध कम ही होते तो और फिल्म और ज्यादा कसी हुई लगती।

Performance

फिल्म पूरी तरह सुशांत के कंधों पर टिकी है और सुशांत ने अपना रोल बखूबी निभाया है। खुद बिहार से होने की वजह से सुशांत शायद धोनी के शुरूआती दिनों के बोलचाल की स्टाइल को अच्छी तरह से कॉपी कर सके। इसके अलावा सुशांत ने धोनी की बॉडी लैंग्वेज और उनके sushant-as-dhoni इमोशंस को भी काफी बारीकी से पकड़ा है। सुशांत के अलावा फिल्म में कियारा आडवाणी और दिशा पटनी का काम भी अच्छा है। अनुपम खेर, धोनी के पिता पान सिंह धोनी का किरदार निभा रहे हैं। धोनी की बहन के रोल में भूमिका चावला हैं। युवराज सिंह का रोल हैरी टंगरी ने निभाया है जो कि बेहद शानदार है। हैरी टंगरी एक काफी टैलेन्टेड एक्टर हैं, जिनका अभी और अच्छा इस्तेमाल होना बाकी है।

Extra Shot

फिल्म के Extra Shot की बात करें, तो वो लगाया है फिल्म के निर्देशक नीरज पांडे ने। ऐसा लगता है कि बायोपिक और एतिहासिक घटनाओं पर फिल्म बनाने में नीरज ने महारत हासिल कर ली है। धोनी में उनकी कहानी और कहानी कहने का तरीका कहीं कमजोर नहीं पड़ता। आज neeraj-pandeyyकी तारीख में ऑडियंस को 3 घंटे से भी ज्यादा कुर्सी पर बिठाकर रखना मामूली बात नहीं होती। नीरज पांडे ने धोनी जैसी फिल्म बनाकर अपने करियर में एक ऐसा एक्स्ट्रा शॉट लगाया है, जिसे लंबे समय तक याद रखा जाएगा।

Final Verdict

हमारी ओर से फाइनल वर्डिक्ट तो यही है कि जाइए देख कर आइए। बच्चों के साथ जाइए, फैमिली के साथ जाइए। ये फिल्म सपनों को पंख लगाने वाली फिल्म है। सपनों में भरोसा जगाने वाली फिल्म है।
Crazy 4 Bollywood की तरफ से DHONI – The Untold Story को 5 में से 4 स्टार !

[taq_review]
अगर आप भी फिल्म देखकर आए हैं, तो यहां वोट करें और बाकी लोगों को बताएं कि आपको फिल्म कैसी लगी ?

Comments

comments

LEAVE A REPLY